केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आज दिल्ली में हुमायूं का मकबरे के परिसर में स्वयंसेवकों के साथ स्वच्छ भारत अभियान में भाग लिया

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आज दिल्ली में हुमायूं का मकबरे के परिसर में स्वयंसेवकों के साथ स्वच्छ भारत अभियान में भाग लिया

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आज सुबह दिल्ली में हुमायूं का मकबरे के परिसर में स्वयंसेवकों के साथ स्वच्छ भारत अभियान में भाग लिया। युवा कार्यक्रम विभाग की सचिव उषा शर्मा और मंत्रालय एवं नेहरु युवा केंद्र संगठन(एनवाईकेएस) के वरिष्ठ अधिकारियों तथा विभिन्न समूहों के स्वयंसेवकों ने भी इस अभियान में भाग लिया। यह मुख्य रूप से प्लास्टिक कचरा इकट्ठा करने एवं हटाने के युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय के महीने भर के स्वच्छता अभियान के हिस्से के रूप में आयोजित किया गया था। यह अभियान आजादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में पूरे देश में चलाया जा रहा है।

इस अवसर पर अनुराग ठाकुर ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपने को पूरा करना है। इस अभियान के माध्यम से हम न केवल स्वच्छ भारत अभियान का आयोजन कर रहे हैं बल्कि स्वच्छ और स्वस्थ परिवेश के बारे में जागरूकता भी पैदा कर रहे हैं। युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय ने इस पहल के माध्यम से नागरिकों की स्वैच्छिक भागीदारी के साथ 1 से 31 अक्टूबर 2021 तक 75 लाख किलोग्राम कचरे, मुख्य रूप से प्लास्टिक कचरे को इकट्ठा करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा,“अभियान के पहले 10 दिनों में स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से पूरे देश में 30 लाख किलोग्राम कचरा एकत्र किया गया है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि हम 31 अक्टूबर 2021 से पहले देश भर में 75 लाख किलोग्राम से अधिक कचरा एकत्र करेंगे।”

अनुराग ठाकुर ने देशवासियों से अपील की कि वे सड़कों और उद्यानों में चिप्स के रैपर एवं प्लास्टिक की बोतलेंतथा अन्य कचरा न फेंके और इस तरह अपने आस-पास कचरा न फैलाएं। जिस तरह हम अपने घरों में साफ-सफाई रखते हैं, उसी तरह सार्वजनिक स्थानों पर स्वच्छता बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने आगे कहा कि अगर सभी जागरूक हो जाएं और कूड़ेदान का इस्तेमाल करें, तो शायद भविष्य में इस तरह के सफाई अभियान चलाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।

स्वच्छ भारत युवाओं के नेतृत्व वाला एक कार्यक्रम है जो देश भर के 744 जिलों के छह लाख गांवों में नेहरू युवा केंद्र संगठन (एनवाईकेएस) से संबद्ध युवा मंडलों और राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) से संबद्ध संस्थानों के साथ-साथ विभिन्न हितधारकों के माध्यम से आयोजित किया जा रहा है। जनसंख्या के विशिष्ट वर्ग जैसे धार्मिक निकाय, शिक्षक, कॉरपोरेट निकाय, टीवी और फिल्म अभिनेता, महिला समूह एवं अन्य भी एक विशेष निर्दिष्ट दिन पर स्वच्छ भारत कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं ताकि इस उद्देश्य के लिए अपनी एकजुटता दिखा सकें और इसे जन आंदोलन का रूप दे सकें। स्वच्छता अभियान ऐतिहासिक/प्रसिद्ध स्थलों और पर्यटन स्थलों, बस स्टैंड/रेलवे स्टेशनों, राष्ट्रीय राजमार्ग एवं शिक्षा संस्थानों जैसी चहल-पहल वाली जगहों पर चलाया जा रहा है।

युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय (भारत सरकार) का युवा कार्यक्रम विभाग आजादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में 1 अक्टूबर 2021 से 31 अक्टूबर 2021 तक अपने संबद्ध युवा स्वयंसेवी संगठनों की मदद से राष्ट्रव्यापी स्वच्छ भारत कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। इन संगठनों में एनवाईकेएस, एनएसएस, युवा क्लब आदि शामिल हैं। स्वच्छ भारत केवल एक कार्यक्रम नहीं है बल्कि यह आम आदमी की वास्तविक चिंताओं और इस समस्या को हल करने के उसके संकल्प को दर्शाता है।

स्वच्छता अभियान की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2014 में की गयी थी,और तब से, इस संबंध में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। स्वच्छ भारत कार्यक्रम नए सिरे से ध्यान देने और प्रतिबद्धता के साथ प्रधानमंत्री की अगुवाई वाली पहल की निरंतरता है। यह वास्तव में हम सभी के लिए स्वच्छ भारत पहल का हिस्सा बनने का एक बड़ा अवसर होने जा रहा है। युवाओं और साथी नागरिकों के सामूहिक प्रयासों और सभी हितधारकों की मदद से, भारत निस्संदेह स्वच्छता अभियान शुरू करेगा और अपने नागरिकों के लिए रहने की बेहतर दशाओं का निर्माण करेगा।

Related posts

Leave a Comment