केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने नई दिल्ली में उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए ‘युक्ति 2.0’ मंच का शुभारंभ किया

yukti

‘युक्ति’ के पूर्व संस्करण के परिणामों को जल्द ही जारी कर दिया जाएगा – श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री, श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने आज उच्च शिक्षण संस्थानों में व्यावसायिक क्षमता और इनक्यूबेटेड स्टार्टअप से संबंधित सूचनाओं को व्यवस्थित करने में सहायता प्रदान करने के लिए ‘युक्ति 2.0’ पहल की शुरुआत की। इस अवसर पर ऑनलाइन माध्यम से मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री, श्री संजय शामराव धोत्रे, अतिरिक्त सचिव (उच्च शिक्षा), श्री राकेश रंजन, अध्यक्ष, एआईसीटीई, प्रो. अनिल सहस्रबुद्धे, सदस्य सचिव, एआईसीटीई, डॉ. राजीव कुमार और एमएचआरडी के इनोवेशन सेल के मुख्य नवाचार अधिकारी डॉ. अभय जेरे भी उपस्थित…

Read More

खुद को बचाने और धरती की रक्षा के लिए बहुविषयक संस्कृति,प्रौद्योगिकी की शक्ति और गहन सहयोग को अपनाने की जरूरत है: एस. रामादोरई

cuktur

पद्म भूषण एस. रामादोरई ने आपदा, विघटन, डिजिटलीकरण,मांग और विविधता पर व्याख्यान दिया टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, मुंबई के पूर्व वाइस चेयरमैन पद्म भूषण श्री एस. रामादोरई ऐसे समय में जब देश और दुनिया एक नए सामान्य कदम के लिए कमर कस रही है, महामारी की वजह से विभिन्न क्षेत्रों में हुए विघटन और इसमें छुपे अवसरों के बारे में बोलते हुए “विघटन डिजिटलीकरण मांग” की बात करते हैं।संस्कृति मंत्रालय के अधीन नेहरू विज्ञान केंद्र द्वारा आयोजित वर्चुअल लॉकडाउन व्याख्यान में श्री एस. रामादोरई ने हर क्षेत्र में नवाचार की आवश्यकता…

Read More

नए अध्ययन से जीभ के कैंसर के उपचार की नयी तकनीक विकसित करने में मिल सकती है मदद

jeebh ka cancer

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-मद्रास, कैंसर संस्थान, चेन्नई के श्री बालाजी डेंटल कॉलेज अस्पताल तथा बेंगलुरु के भारतीय विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं की एक टीम ने एक खास किस्म के माइक्रोआरएनए  की पहचान की है जो जीभ का कैंसर होने पर अत्याधिक सक्रिय रूप से दिखाई देता है। वैज्ञानिकों ने इस माइक्रोआरएनए को एमआईआर -155 का नाम दिया है।   यह एक किस्म के छोटे रिबो न्यूक्लिक एसिड हैं।  ये एसिड ऐसे नॉन कोडिंग आरएनए  हैं जो कैंसर को पनपने में मदद करने के साथ ही विभिन्न जैविक और नैदानिक  प्रक्रियाओं के नियंत्रित करने में शामिल रहते…

Read More

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय 8 जून से 3 जुलाई 2020 तक ग्रीष्मकालीन कला कार्यक्रम “ऑनलाइन नैमिषा 2020” का आयोजन करेगा

nemissa

“ऑनलाइन नैमिषा 2020” कार्यक्रम के तहत चार कार्यशालाओं का आयोजन किया जाएगा राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय ने 8 जून से 3 जुलाई 2020 तक ग्रीष्मकालीन कला कार्यक्रम “ऑनलाइन नैमिषा 2020” का आयोजन करने की घोषणा की है। इस महामारी की स्थिति में और लॉकडाउन के दौरान, संग्रहालय और सांस्कृतिक संस्थान हमेशा की तरह आगंतुकों और दर्शकों को सेवा प्रदान नहीं कर सकते हैं। इस स्थिति ने एनजीएमए को अपने दर्शकों तक पहुंचने के लिए नए क्षेत्रों और प्लेटफार्मों का पता लगाने के लिए प्रेरित किया। पिछले दो महीनों में एनजीएमए…

Read More