स्कूली बच्चों को नई खोज के लिए प्रोत्साहित करने का कदम नवाचार पिरामिड के आधार को विस्तार दे रहा है

manak

कल्पनाशील दिमाग वाले बच्चे अपनी और आस-पास की समस्याओं के नए समाधान खोज सकते हैं। सरकार इस कल्पना को विस्तार देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है और नवाचार पिरामिड की नींव को विस्तार दिया जा रहा है, जो कि बच्चों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी को आधार बनाकर दिन-प्रतिदिन की समस्याओं के समाधान ढूंढने के लिए प्रोत्साहित करता है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) इस तरह के मौलिक विचारों का स्वागत करता है। इसके अलावा मेधावी छात्रों को जिला, राज्य, और राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी आयोजित करने के साथ-साथ…

Read More

एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय के एक शिक्षक को ‘राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2020’

teacher wards

इस वर्ष, प्रथम बार, ईएमआरएस-कलसी, देहरादून, उत्तराखंड की उप-प्रधानाचार्या (वाइस प्रिंसिपल) सुश्री सुधा पेनुली को, ‘राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2020’ से सम्‍मानित किया जाना जनजातीय कार्य मंत्रालय के तहत अपनी स्थापना के बाद से, एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों (ईएमआरएस) के लिए विशेष गौरव की बात है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय (पूर्ववर्ती मानव संसाधन विकास मंत्रालय), स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने वर्ष 2020 के लिए राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार (एनएटी) प्रदान को करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक स्वतंत्र निर्णायक मंडल का गठन किया था। श्रीमती सुधा पेनुली को कठोर तीन चरणीय ऑनलाइन पारदर्शी प्रक्रिया के बाद 47 उत्कृष्ट शिक्षकों सूची में शामिल किया गया।  एकलव्य जन्‍म-दिवस बगिया…

Read More

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने आज नई दिल्ली में राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) की विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा की

nios

बैठक में स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता सचिव, श्रीमती अनीता करवाल, स्कूली शिक्षा की संयुक्त सचिव श्रीमती स्वीटी चांगसन और एनआईओएस के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।   बैठक के दौरान श्री पोखरियाल ने संस्थान में पारदर्शी कार्यप्रणाली पर बल दिया जिससे कि बेहतर परिणाम सामने आ सकें। मंत्री द्वारा परीक्षा तंत्र को मजबूती प्रदान करने पर भी चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि अगर हमें संस्थान में कुछ अनियमितताएं दिखाई देती है तो हमें दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने एनआईओएस के अधिकारियों को निर्देश दिया कि अगर उन्हें एनआईओएस…

Read More

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने वर्चुअल माध्यम से ‘छात्रों में सीखने की क्षमता को बेहतर करने संबंधी दिशा-निर्देशों’ को जारी किया

virtuallearning

इस अवसर पर मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान वर्तमान समय में, मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले संस्थानों ने एक साथ मिलकर काम किया है और डिजिटल माध्यमों का उपयोग करके बच्चों को घर पर ही स्कूली शिक्षा प्रदान करने का प्रयास किया है। वैकल्पिक दस्तावेजों जैसे कि शैक्षणिक कैलेंडर, प्रज्ञाता दिशा-निर्देश, डिजिटल शिक्षा भारत रिपोर्ट, निष्ठा ऑनलाइन आदि कुछ ऐसी ही पहलें हैं जिनकी शुरुआत बच्चों की स्कूली शिक्षा में निरंतरता बनाए रखने के लिए की गई है। वैकल्पिक माध्यमों से छात्रों को स्कूली शिक्षा प्रदान करने के प्रयासों के बीच, विभिन्न…

Read More