संसद ने कृषि उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक 2020 पारित किया

farmer bill 2020

संसद ने कृषि क्षेत्र के उत्थान और किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से आज दो विधेयक पारित कर दिए। कृषि उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) विधेयक, 2020 और कृषक (सशक्तिकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक, 2020 को लोकसभा ने आज (17 सितंबर, 2020) को पारित कर दिया था जबकि राज्य सभा ने आज इस विधेयक को पारित कर दिया। यह विधेयक 5 जून, 2020 को आए अध्यादेश को कानून में बदलने के लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण तथा ग्रामीण विकास एवं…

Read More

सरकार ने पिछले तीन वर्षों के दौरान 3,82,581 शेल कंपनियों को बंद किया

shell companies

लगातार दो साल या इससे अधिक समय से वित्तीय विवरणों (एफएस) के दाखिल नहीं करने के आधार पर कंपनियों की पहचान की गई और कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 248 तथा कंपनी (कंपनी रजिस्टर से कंपनियों के नाम हटाना) नियम, 2016 के तहत कानून की उचित प्रक्रिया के पालन के बाद, पिछले तीन वर्षों के दौरान 3,82,581 कंपनियों को बंद कर दिया गया है। यह बात आज राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट मामलों के राज्य मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कही। कंपनी…

Read More

भारत में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 90,000 से अधि​क रोगी हुए ठीक

covid-19

भारत का राष्ट्रीय रिकवरी दर 80% के पार पहुंच गया है। तेजी से मरीजों के रिकवरी होने के कारण भारत में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 90,000 से अधिक रोगी ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटों में 93,356 मरीजों को छुट्टी दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज ‘संडे संवाद’  कार्यक्रम के ज़रिये अपने सोशल मीडिया फॉलोवर्स से बातचीत की और उनके प्रश्नों के उत्तर दिए। डॉ. हर्षवर्धन से पूछे गए सवालों में न केवल कोविड की वर्तमान स्थिति के बारे में चर्चा हुई, बल्कि इस सम्बन्ध में सरकार के दृष्टिकोण के बारे…

Read More

कोविड 19 पर अपडेट

covid-19-update

  भारत ने कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर पार कर लिया है। एक ऐतिहासिक उपलब्धि के रूप में देश में पहली बार, एक ही दिन में रिकॉर्ड 12 लाख से अधिक कोविड जांचें की गईं। पिछले 24 घंटों में किए गए 12,06,806 परीक्षणों के साथ, कुल संख्या लगभग 6.36 करोड़ (6,36,61,060) के पार हो चुकी है। देश में हो रही यह व्यापक वृद्धि कोविड-19 की जांच के बुनियादी ढांचे के विस्तार और विकास को प्रदर्शित करता है। देश की जांच क्षमता कई गुना बढ़ चुकी है। 8 अप्रैल को देश में प्रतिदिन केवल 10,000 जांच करने की उपलब्धता थी, वहीँ आज दैनिक औसत 12 लाख को पार कर गया है। पिछले एक करोड़ परीक्षण केवल 9 दिनों में ही किए गए थे। उच्च जांच क्षमता से कोविड के सकारात्मक मामलों की शीघ्र पहचान हो जाती है और समय पर प्रभावी उपचार भी मिल जाता है। जिससे मृत्यु दर को कम करने में काफी मदद मिलती है। हालिया आंकड़ों से यह जानकारी मिली है कि परीक्षण की उच्च संख्या के बाद भी कोविड के सकारात्मक मामलों की संख्या में कमी आई है। दैनिक सकारात्मकता आंकड़ों में आई तेज गिरावट से यह पता चलता है कि संक्रमण के प्रसार की दर घटी है। भारत की दैनिक जांच संख्या दुनिया में सबसे अधिक है। कोविड- 19 को लेकर केंद्र सरकार लगातार नीतियां बना रही है। लोगों की स्वास्थ्य चिंता को ध्यान में रख कर केंद्र सरकार ने सुरक्षा उपायों के मद्देनज़र व्यापक परीक्षण की सुविधा के तहत, हाल ही में पहली बार व्यक्ति-विशेष के अनुरोध पर जांच कराने की व्यवस्था दी है। परीक्षणों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ इसके तौर-तरीकों को सरल बनाने के लिए भी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को और अधिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। केंद्र सरकार ने किसी भी पंजीकृत चिकित्सक के पर्चे पर कोविड -19 की जांच करने की अनुमति दे दी है, अब इसके लिए विशेष रूप से किसी सरकारी डॉक्टर की आवश्यकता नहीं है। केंद्र ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निजी चिकित्सकों सहित सभी योग्य चिकित्सकों द्वारा जल्द से जल्द जांच कराने अनुमति देने में सक्षम बनाने की सुविधा देने के लिए तत्काल कदम उठाने की सलाह दी है, ताकि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद-आई.सी.एम.आर के दिशा-निर्देशों के अनुसार परीक्षण के लिए मानदंडों को पूरा करने वाले किसी भी व्यक्ति की कोविड जांच कराई जा सके। जांच की क्षमता को लगातार बढ़ाना ‘चेज़ द वायरस’ रणनीति का एक अभिन्न हिस्सा है, जिसका उद्देश्य संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए प्रत्येक अनुपस्थित व्यक्ति को इसके दायरे में लाना है। राज्यों को सलाह दी गई है कि सभी लक्षण नकारात्मक होने वाले रैपिड एंटीजन टेस्ट अनिवार्य रूप से आरटी-पीसीआर के अधीन होंगे। देश भर में आसान जांच सुविधा उपलब्ध कराने के लिए विस्तारित डायग्नोस्टिक लैब नेटवर्क और सरलीकृत प्रक्रिया ने बढ़ी हुई परीक्षण संख्या को और अधिक बढ़ावा दिया है। टेस्ट प्रति मिलियन संख्या (टीपीएम) बढ़कर 46,131 तक पहुंच गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन-डब्ल्यूएचओ की 140 जांच प्रतिदिन दिन प्रति 10 लाख की आबादी के दिशा निर्देशों को पूरा करने में भारत ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है। कोविड-19 के संदर्भ में सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को समायोजित करने के लिए “सार्वजनिक स्वास्थ्य मानदंड” पर डब्ल्यूएचओ ने अपने मार्गदर्शन में इस रणनीति की अपनाने की सलाह दी है। उपलब्धियों की एक और पंक्ति में, 35 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों ने परीक्षणों की निर्धारित संख्या को पार कर लिया है।   कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मुद्दों, दिशा-निर्देशों एवं परामर्श के संबंध में समस्त प्रामाणिक और अद्यतन (अपडेट) जानकारी प्राप्त करने के लिए कृपया नियमित रूप…

Read More