ईसीआई ने 2021-22 के लिए भूटान के चुनाव आयोग को एफईएमबीओएसए अध्यक्ष पद हस्तांतरित किया

ईसीआई ने 2021-22 के लिए भूटान के चुनाव आयोग को एफईएमबीओएसए अध्यक्ष पद हस्तांतरित किया

मुख्य चुनाव आयुक्त और एफईएमबीओएसए के वर्तमान चेयरमैन सुशील चंद्रा ने चुनाव आयुक्तों राजीव कुमार और ए. सी. पांडे के साथ आज वर्ष 2021 के लिए फोरम ऑफ इलेक्शन मैनेजमेंट बॉडीज ऑफ साउथ एशिया (एफईएमबीओएसए) की 11वीं वार्षिक बैठक का शुभारम्भ किया। वर्चुअल माध्यम से हुई बैठक की मेजबानी भूटान के चुनाव आयोग ने की थी। दिन भर चली बैठक में भारत के साथ ही अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका से प्रतिनिधिमंडलों ने भाग लिया।

एफईएमबीओएसए के निवर्तमान अध्यक्ष के रूप में सीईसी सुशील चंद्रा ने वर्चुअल रूप में एफईएमबीओएसए की अध्यक्षता भूटान के मुख्य चुनाव आयुक्त एच. ई. डैशो सोनम तोपगे को हस्तांतरित कर दी है। भूटान के चुनाव आयुक्त की तरफ से, भारत में भूटान के राजदूत एच.ई. मेजर जनरल वेत्सप नामग्येल ने एफईएमबीओएसए 2021-22 के नए अध्यक्ष की भूमिका संभालते हुए भूटान के चुनाव आयोग के लिए सुशील चंद्रा से एफईएमबीओएसए लोगो स्वीकार किया।

अपने संबोधन में सुशील चंद्रा ने कहा कि एफईएमबीओएसए लोकतांत्रिक विश्व के एक काफी बड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है और चुनाव प्रबंधन संस्थाओं की एक सक्रिय क्षेत्रीय सहयोग संगठन है। सुनहरे मोतियों से युक्त इसका लोगो पारदर्शिता, निष्पक्षता, लोकतंत्र और सहयोग के शाश्वत मूल्यों का समर्थन करता है। सुशील चंद्रा ने नवंबर, 2020 में बिहार में और कोविड 19 महामारी के मुश्किल दौर में मार्च/अप्रैल 2021 में असम, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल व पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव कराने के भारत के अनुभव साझा किए। सुशील चंद्रा ने कहा कि तकनीक विकास और चुनाव प्रबंधन पर उसका प्रभाव हम सभी के लिए खासा महत्वपूर्ण है। चुनावों को ज्यादा भागीदारीपूर्ण, सुगम और पारदर्शी बनाने के लिए तकनीक का काफी उपयोग हुआ है।

आज की बैठक की विषय वस्तु ‘चुनावों में तकनीक का उपयोग’ थी। सुशील चंद्रा ने कहा कि प्रौद्योगिकी के तीव्र विकास के साथ तालमेल बिठाते हुए, ईसीआई ने कई प्रक्रियाओं का डिजिटलीकरण किया है। कोविड 19 के हालात में व्यक्ति से व्यक्ति का संपर्क न्यूनतम करने में सहायक होने के कारण तकनीक आधारित प्रक्रियाएं काफी अहम हो गई हैं। सुशील चंद्रा ने कहा कि ईसीआई अपने उद्देश्यों के तहत फोरम की गतिविधियों को बढ़ावा देने में एफईएमबीओएसए सदस्य ईएमबी के साथ अपने संवाद को बढ़ाने और सदस्यों के साथ सहयोग में कौशल व क्षमता विकास के प्रयासों को साझा करके साथी ईएमबी के सशक्तिकरण के लिए तत्पर है। उन्होंने यह सुनिश्चित करने की ईसीआई की प्रतिबद्धता दोहराई कि एफईएमबीओएसए में निहित आदर्शों और उद्देश्यों को आगे भी बनाए रखा जाएगा।

ईसीआई महासचिव उमेश सिन्हा ने 24 जनवरी, 2020 को नई दिल्ली में हुई एफईएमबीओएसए की 10वीं बैठक में स्वीकृत कार्ययोजना 2020 के तहत जनवरी, 2020- जुलाई, 2021 की अवधि के लिए ईसीआई की अध्यक्षता की अवधि के दौरान एफईएमबीओएसए के सदस्यों की गतिविधियों पर प्रबंधन रिपोर्ट प्रस्तुत की।

फोरम के अध्यक्ष के दायित्व को स्वीकार करते हुए, भूटान के सीईसी एच. ई. डैशो सोनम तोपगे ने भूटान के चुनाव आयोग में भरोसा और विश्वास बहाल करने के लिए प्रतिनिधिमंडलों का आभार प्रकट किया। उन्होंने एफईएमबीओएसए सदस्यों को भरोसा दिलाया कि सार्क देशों के चुनाव प्रबंधन संस्थानों के बीच संपर्क बढ़ाने के लिए एफईएमबीओएसए के उद्देश्यों को प्रोत्साहन देने; एक दूसरे से सीखने और मुक्त व निष्पक्ष चुनाव कराने की दिशा में चुनाव प्रबंधन संस्थानों की क्षमताओं को बढ़ाने में एक दूसरे से सहयोग के लिए अनुभव साझा करने के लिए अत्यंत समर्पण के साथ काम करेगा।

वर्तमान महामारी के हालात के दौरान अध्यक्ष का कार्यकाल दो साल तक बढ़ाने के लिए एफईएमबीओएसए सदस्यों द्वारा सर्वसम्मति से थिम्पू संकल्प को स्वीकार किया गया था। संकल्प दस्तावेज में एफईएमबीओएसए के सदस्यों के क्षमता विकास में ईसीआई और आईआईआईडीईएम द्वारा किए गए सराहनीय प्रयासों का उल्लेख किया गया है। आईआईआईडीईएम और ईसीआई परस्पर सहयोग और समर्थन के साथ सदस्य देशों की जरूरतों के लिए कार्यक्रमों का आयोजन जारी रखेंगे।

अपने समापन भाषण में, सुशील चंद्रा ने एफईएमबीओएसए के उद्देश्यों और मिशन की ईसीआई की प्रतिबद्धता दोहराई। सुशील चंद्रा ने कहा कि एफईएमबीओएसए पारस्परिक हितों के मामलों पर विचारों के आदान प्रदान का एक अर्थपूर्ण मंच की पेशकश करता है, इस क्रम में हम नई जानकारियां और सामने आने वाली चुनौतियों के संभावित समाधान हासिल करके चुनावी प्रबंधन के क्षेत्र में अपने सबक और अनुभवों को साझा करना जारी रखेंगे। सुशील चंद्रा ने कहा कि आज हुए विचार विमर्श काफी उद्देश्यपूर्ण, उपयोगी और भागीदारीपूर्ण रहे।

Related posts

Leave a Comment