राष्ट्रीय संग्रहालय 16 से 20 मई तक नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय में अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2022 मनाएगा

राष्ट्रीय संग्रहालय 16 से 20 मई तक नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय संग्रहालय में अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2022 मनाएगा

अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस 2022 के अवसर पर, राष्ट्रीय संग्रहालय पांच दिनों तक युवाओं और वयस्कों दोनों के लिए डिज़ाइन की गई ऑनलाइन तथा ऑफलाइन कार्यकलापों और कार्यक्रमों का एक मिश्रित आयोजन प्रस्तुत करेगा।

प्रस्तुत की जाने वाली आकर्षक गतिविधियों में द्वारका के सीसीआरटी, दिल्ली के माता सुंदरी महाविद्यालय तथा भारतीय संस्कृति पोर्टल के सहयोग से शिक्षकों की डिजिटल प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन शामिल है। इसके बाद एक दिवसीय संग्रहालय शिक्षाविदों की एक बैठक आयोजित की जाएगी, जिसमें दिल्ली के विभिन्न केंद्रीय तथा राज्य सरकार संग्रहालयों की सहभागिता होगी। संग्रहालय इसके लिए हेरिटेज लैब, फ्लो इंडिया, एक्सेस फॉर ऑल तथा ‘हेरिटेज फॉर एजुकेटर्स मीट’ के साथ सहयोग करेगा। द एजुकेटर्स मीट राष्ट्रीय संग्रहालय (एनएम) की एक प्रायोगिक पहल है, जिसकी अवधारणा सरकारी संग्रहालय शिक्षाविदों को एक साथ एक मंच पर लाने के प्रयास के रूप में की गई है, जिससे कि अवसरों, चुनौतियों और उन्हें प्राप्त करने योग्य समाधानों को साझा किया जा सके तथा उन पर चर्चा की जा सके।

राष्ट्रीय संग्रहालय 18, 19 और 20 मई को विस्तारित समय अर्थात् सुबह 10 बजे से रात 9:00 बजे तक के लिए खुला रहेगा। इसे ध्यान में रखते हुए, संग्रहालय ने राष्ट्रीय संग्रहालय के संरक्षकों आदि के साथ एक विशेष सत्र में क्यूरेटर, सलाहकारों और राष्ट्रीय संग्रहालय के वरिष्ठ अधिकारियों के नेतृत्व में बच्चों के लिए व्यावहारिक गतिविधियों तथा आने वाले आगंतुकों के लिए गतिविधि काउंटरों द्वारा गैलरी वॉक की रूपरेखा तैयार की है। संग्रहालय विभिन्न गैर सरकारी संगठनों का प्रतिनिधित्व करने वाले बच्चों के लिए समर्पित वॉक और गतिविधियों का भी आयोजन करेगा।

प्रतिदिन सायं काल राष्ट्रीय संग्रहालय सभागार में विशेष लाइव प्रदर्शन भी किए जाएंगे। सभी प्रदर्शन प्रतिदिन सायं सात बजे से आरंभ होंगे। साधो बैंड 18 मई को सूफी संगीत की प्रस्तुति देगा, सुधा जगन्नाथ और उनकी बृहनयिका नात्र्यसुरभी 19 मई को भरतनाट्यम का प्रदर्शन करेंगी, जबकि शगुन बुटानी और सुधाया डांस फाउंडेशन का ग्रुप अभिसार प्रस्तुत करेगा और ओडिसी का पारंपरिक रंग पटल, जिनकी प्रतिध्वनि राष्ट्रीय संग्रहालय में प्रदर्शित कुछ कलाकृतियों में विद्यमान है, ओडिसी नृत्य का प्रदर्शन करेंगे।

राष्ट्रीय संग्रहालय सभी आयु समूहों, पृष्ठभूमि और रुचियों वाले आगंतुकों के लिए विचारों और अनुभवों के साथ एक अनूठा मनोरंजन स्थल प्रस्तुत करता है। राष्ट्रीय संग्रहालय विभिन्न दर्शक वर्गों के बीच इतिहास और कला रूपों के लिए रुचि और जागरूकता पैदा करने की दिशा में काम करता रहा है। विश्व भर के संग्रहालयों द्वारा 18 मई को अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य समुदाय निर्माण, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के साथ-साथ सांस्कृतिक आदान-प्रदान में संग्रहालयों की उल्लेखनीय भूमिका के बारे में जागरूकता पैदा करना है।

Related posts

Leave a Comment