भारत सरकार और एआईआईबी ने मुंबई में उपनगरीय रेलवे प्रणाली की नेटवर्क क्षमता समझौते पर हस्ताक्षर किए

upnagriya network pranali

इस परियोजना से नेटवर्क क्षमता में वृद्धि होने के साथ ही यात्रियों के यात्रा समय और जानलेवा दुर्घटनाओं में कमी आने की उम्मीद है। अनुमान है कि परियोजना के प्राथमिक लाभार्थियों में 22% महिला यात्री हैं जो बेहतर सुरक्षा और सेवा की गुणवत्ता से लाभान्वित होंगी। ऋण समझौते पर भारत सरकार की ओर से वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग के अपर सचिव श्री समीर कुमार खरे, महाराष्ट्र सरकार की ओर से मुख्य सचिव श्री संजय कुमार, मुंबई रेल विकास निगम की ओर से मुख्‍य प्रबंध निदेशक श्री आरएस…

Read More

सरकार ने 2022 तक पेट्रोल के साथ 10 प्रतिशत इथेनॉल मिलाने का और 2030 तक 20 प्रतिशत सम्मिश्रण का लक्ष्य निर्धारित किया है

MoCAFPD

सरकार ने चीनी उद्योग की व्यवहार्यता में सुधार लाने के लिए कई उपाय किए हैं, जिससे चीनी मिलों को किसानों के गन्ने के भुगतान समय पर करने में मदद मिलेगी। इससे आगे बढ़ते हुए, अतिरिक्त स्टॉक की समस्या को दूर करने और चीनी उद्योग की व्यवहार्यता में सुधार लाने के लिए अतिरिक्त गन्ने और चीनी को दूसरे जगह भेजने के दीर्घकालिक समाधान पर तेजी से कार्य हुआ है। इथेनॉल एक हरे रंग का ईंधन है और पेट्रोल के साथ इसके सम्मिश्रण से देश का विदेशी मुद्रा भी बचता है। सचिव (खाद्य और…

Read More

केवीआईसी ने ‘खादी असेन्शल’ और ‘खादी ग्लोबल’ को धोखे से खादी ब्रांड नाम का इस्तेमाल करने के खिलाफ कानूनी नोटिस भेजे

kvic

केवीआईसी ने आज एक बयान में कहा है कि दोनों कंपनियां ब्रांड नाम “खादी” का उपयोग करके विभिन्न ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों के माध्यम से कई तरह के कॉस्मेटिक और सौंदर्य उत्पादों को बेचने में लगी हुई हैं और इस तरह उपभोक्ताओं को गुमराह कर रही हैं। अगस्त के पहले सप्ताह में खादी असेन्शल और खादी ग्लोबल को दिए गए नोटिस में केवीआईसी ने दोनों कंपनियों को ब्रांड नाम “खादी” का उपयोग करके अपने उत्पादों की बिक्री या प्रचार को तुरंत बंद करने और डोमेन नाम www.khadiessentials.com और www.khadiglobalstore.com को रद्द करने को कहा है। दोनों…

Read More

मंत्रिमंडल ने गन्ना सीजन 2020-21 के लिए चीनी मिलों द्वारा भुगतान-योग्य गन्ने के ‘उचित एवं लाभकारी मूल्य’ निर्धारण को मंजूरी दी

sugercan

गन्ना सीजन 2020-21 के लिये एफआरपी 10 प्रतिशत की रिकवरी के आधार पर 285 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। रिकवरी में 10 प्रतिशत से अधिक प्रत्येक 0.1 प्रतिशत की वृद्धि के लिये प्रति क्विंटल 2.85 रुपये का प्रीमियम प्रदान करने तथा प्रत्‍येक रिकवरी में 0.1 प्रतिशत की कमी पर एफआरपी में 2.85 रुपये प्रति क्विंटल की दर से कमी करने का प्रावधान किया गया है। यह व्‍यवस्‍था ऐसी चीनी मिलों के लिए है जिनकी रिकवरी 10 प्रतिशत से कम लेकिन 9.5 प्रतिशत से अधिक है। हालांकि ऐसी चीनी मिलों के लिए जिनकी रिकवरी 9.5 प्रतिशत या उससे कम है…

Read More