विद्युत मंत्री ने बैटरी भंडारण के लिये पीएलआई योजना पर अंतर-मंत्रालयी बैठक की अध्यक्षता की

विद्युत मंत्री ने बैटरी भंडारण के लिये पीएलआई योजना पर अंतर-मंत्रालयी बैठक की अध्यक्षता की

विद्युत तथा नवीन और नवीकरण ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने उन्नत रसायन सेल (एसीसी) बैटरी भंडारण तथा विदेश में लिथियम खानों को हासिल करने की रणनीति की समीक्षा करने के लिये कल शाम को अंतर-मंत्रालयी बैठक की अध्यक्षता की। खान मंत्रालय, कोयला मंत्रालय, भारी उद्योग मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, नीति आयोग के अधिकारीगण और विद्युत मंत्रालय के आला अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

आरके सिंह ने भारी उद्योग मंत्रालय द्वारा पीएलआई योजना पर बोलियों की स्थिति का जायजा लिया और पीएलआई बोली प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश दिया। उन्होंने विश्व में लिथियम भंडारों की उपलब्धि पर भी चर्चा की। आरके सिंह ने उन संभावित स्थानों की समीक्षा की, जहां भारत लिथियम खानों की पड़ताल कर सकता है। उन्होंने कहा कि विभिन्न देशों में खानों को हासिल करने की प्रक्रिया और प्रणाली भिन्न-भिन्न है तथा हमें उसी के अनुसार अपनी तैयारी करनी चाहिये।

आरके सिंह ने कहा ऊर्जा जरूरतों के मद्देनजर भारत एक विशाल देश है और इसीलिये बैटरी भंडारण सम्बंधी हमारी जरूरत भी बड़ी है। एक अनुमान के अनुसार हमारे 500 गीगावॉट की अतिरिक्त नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को सहारा देने के लिये वर्ष 2030 तक इसकी आवश्यकता 120 जीडब्लूएच हो जायेगी। हमारे नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुये उन्होंने भावी संभावनाओं और दीर्घकालीन योजना पर भी चर्चा की।

Related posts

Leave a Comment