राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मानवाधिकार दिवस समारोह में कहा समानता मानव अधिकार की आत्मा और अधिकार हमारी साझी जिम्मेदारियां

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मानवाधिकार दिवस समारोह में कहा समानता मानव अधिकार की आत्मा और अधिकार हमारी साझी जिम्मेदारियां

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा है कि देश में लोगों को कोविडरोधी टीके लगाकर कई लोगों की जान बचाई गई है। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी ने समाज के कमजोर लोगों पर विनाशकारी प्रभाव डाला है।

राष्ट्रपति ने आज नई दिल्ली में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा आयोजित मानवाधिकार दिवस समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी अभी खत्म नहीं हुई है। उन्होंने विश्‍व का सबसे बडा टीकाकरण अभियान चलाने के लिए देश की सराहना की। राष्ट्रपति कोविंद ने महामारी के दौरान डॉक्टरों, वैज्ञानिकों और कोरोना योद्धाओं के प्रयासों के लिए उनकी प्रशंसा की।

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि समानता मानवाधिकारों की आत्मा है। उन्होंने कहा, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने महामारी के दौरान कई परामर्श जारी किए और चिकित्‍सा संबंधी तैयारियों को मजबूत करने के लिए सभी हितधारकों के साथ काम किया।

राष्ट्रपति ने जलवायु न्याय पर जोर देते हुए कहा कि प्रकृति का क्षरण अपरिवर्तनीय है लेकिन दुनिया वैश्विक जलवायु में हानिकारक परिवर्तन देख रही है। उन्होंने कहा कि भारत ने प्रकृति की सुरक्षा के लिए कई पहल की हैं जो बहुत आगे तक जाएगी। राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि सौर गठबंधन और हरित ऊर्जा को बढ़ावा देने की विभिन्न पहलों से प्रकृति की रक्षा करने में मदद मिलेगी।

Related posts

Leave a Comment