गृह मंत्री अमित शाह ने गांधीनगर में विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया

गृह मंत्री अमित शाह ने गांधीनगर में विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गांधीनगर में विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया। अमित शाह ने श्री स्वामीनारायण विश्वविद्यालय की प्रशासनिक बिल्डिंग का उद्घाटन व 750 बेड वाले PSMअस्पताल का शिलान्यास किया। गृह एवं सहकारिता मंत्री ने वरदायिनी माता मंदिर ट्रस्ट के विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन एवं शिलान्यास,वासन ग्राम सरोवर के जीर्णोद्धार एवं सौन्दर्यीकरण के कार्यों का शिलान्यास और जिला अस्पताल में ‘सखी वन स्टॉप सेंटर’का उद्घाटन भी किया।

श्री स्वामीनारायण संप्रदाय के 750 बेड वाले PSM अस्पताल का शिलान्यास करते हुए गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि रथयात्रा के पवित्र दिन आज लोगों के स्वास्थ्य के लिए एक बहुत ही लाभकारी शुभकार्य का भूमिपूजन हुआ है। भगवान स्वामीनारायण ने गुजरात के अनेक गाँवों में विचरण कर शिक्षा, व्यसन मुक्ति,आध्यात्मिक जागरण और संस्कारों के सिंचन जैसे समाज सुधार के अनेक कार्य किए। भगवान स्वामीनारायण ने सेवा की जो परंपरा शुरू की थी वह आज न केवल गुजरात बल्कि समग्र देश और दुनिया में संस्कारों के सिंचन का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि स्वामीनारायण संप्रदाय संस्कार, शिक्षण, स्वास्थ्य और व्यसन मुक्ति के क्षेत्रों में बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य कर कहा है।स्वामीनारायण संप्रदाय ने राज्य के दूरदराज़ के इलाक़ों में गुरुकुल बनाए और जिनके पास रहने को घर और दो वक़्त का खाना न हो ऐसे आदिवासी बालकों को शिक्षित कर और उन्हें जीवनभर व्यसनों से मुक्त रखकर एक आदर्श नागरिक बनाने का काम किया। स्वामीनारायण संप्रदाय ने बच्चों, युवाओं और महिलाओं समेत पूरी पीढ़ी को संस्कार देकर सद विचार के रास्ते पर ले जाने और समाज की सृजन शक्ति का संग्रह करने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि चक्रवाती तूफ़ान,बाढ़ और सूखे जैसी किसी भी आपदा के समय कलेक्टर ऑफिस सहायता के लिए सबसे पहलेस्वामीनारायण संप्रदाय से मदद का अनुरोध करता है। स्वामी नारायण संप्रदाय ने पूरी दुनिया में स्वयंसेवक संस्थाओं की सुगंध फैलाने का काम किया है।

अमित शाह ने कहा कि शिक्षा,सेवा और संस्कार के साथ ही स्वामीनारायण संप्रदाय की अनेक संस्थाओं ने बड़े बड़े अस्पताल बनाकर स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य किया है। इन हॉस्पिटल का उद्देश्य लाभ कमाना नहीं बल्कि गरीब लोगों की सेवा करना है और इस सेवा कार्य की सुगंध पूरी दुनिया में फैल रही है। अमित शाह ने कहा कि भवन तो खड़े हो जाते है लेकिन अगर उनमें सेवा की भावना नहीं हो तो वे सेवा केंद्र नहीं ईंटबल्कि सीमेंटके ढाँचे के समान होते हैंऔर भवन में भावना को निरूपित करने का काम स्वामीनारायण संतों ने किया है।उन्होंने कहा कि 750 बेड वाला यह हॉस्पिटल न केवल कलोल बल्कि पूरे उत्तर गुजरात और उसके नज़दीक राजस्थान में रहने वाले लोगों को अत्याधुनिक स्वास्थ्य सुविधाएँ प्रदान करेगा।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार ने पिछले 8 वर्षों में देश को हर क्षेत्र में सर्वोत्तम बनाने का काम किया है। 8 साल पहले दुनिया में स्वास्थ्य के क्षेत्र में भारत का नाम कहीं नहीं था, लेकिन पिछले आठ वर्षों में देश में सबसे पहले मेडिकल कॉलेज की संख्या बढ़ाने का काम किया गया है क्योंकि डॉक्टर के बिना स्वास्थ्य सेवा संभव नहीं है। मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने से पहले 2013-14 में देश में सिर्फ़ 387 मेडिकल कॉलेज थे जबकि आज इनकी संख्या 603 हो गई है। पहले एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी कर हर साल 51348 लोग डॉक्टर बनते थे,अब हर साल 89875 एमबीबीएस डॉक्टर बन रहे हैं। पहले हर साल 31100 डॉक्टर एमडी और एमएस के पढ़ाई करते थे जबकि आज 60000 डॉक्टर प्रत्येक वर्ष एमडी और एमएस कर रहे हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी जी ने गरीब व्यक्ति को इलाज की सुविधा प्रदान करते हुए 60 करोड़ लोगों के लिए प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना कार्ड दिए हैं। इसमें पाँच लाख रुपये तक निःशुल्क इलाज की सुविधा प्रदान की गई है।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने इस प्रकार की व्यवस्था की है जिससे देश के गरीब से गरीब व्यक्ति को भी वही स्वास्थ्य सुविधाएँ मिलें जो धनवान लोगों को मिलती हैं।

अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ़्रास्ट्रक्चर बनाने और पीएचसी तथा सीएचसी को अपग्रेड करने के साथ ही क़रीब 64 हज़ार करोड़ रुपये के खर्च से सरकारी अस्पताल पीएचसी और सीएचसी को मज़बूत और आधुनिक बनाने का काम किया है।डिजिटल आयुष्मान भारत मिशन के माध्यम से एम्स जैसे बड़े अस्पतालों द्वारा टेली और विडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिए देश भर के छोटे से छोटे अस्पताल में सलाह देने की व्यवस्था की गई है। अमित शाह ने कहा कि साथ ही प्रधानमंत्री मोदी जी ने आयुष मंत्रालय के माध्यम से देश की परंपरागत आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को मज़बूत बनाने का काम किया है। आज कोई ऐसा एम्स नहीं है जहाँ आयुष विभाग न हो, साथ ही आयुर्वेद में अनुसंधान और विकास को बढ़ावा भी दिया जा रहा है।उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आयुष को बढ़ावा देकर एक ऐसी स्थिति का निर्माण किया है जिसमें पूरा विश्व हमारे आयुर्वेद को स्वीकार करे। आज आयुष मंत्रालय हर चीज़ की वैज्ञानिक व्यवस्था कर रहा है और मुझे पूरा विश्वास है कि अगले कुछ वर्षों में दुनियाभर से लोगआयुर्वेद का इलाज करवाने भारत आएंगे।

एक अन्य कार्यक्रम में रुपाल में वरदायिनी माता मंदिर ट्रस्ट के विभिन्न विकास कार्यों का उद्घाटन एवं शिलान्यास करने का बाद अपने सम्बोधन में अमित शाह ने कहा कि रुपाल गाँव महाभारत काल से इतिहास का साक्षी रहा है और यह वही वरदायीनी मंदिर है, जहाँ पांडवो ने एक साल का अज्ञातवास पूर्ण किया,अपने शस्त्र छुपाए और वरदायीनी मां का आशीर्वाद लेकर असत्य औरअधर्म के सामने महाभारत शुरु करने का निर्णय किया था।

उन्होंने कहा कि एक समय था जब गुजरात में पिछली सरकार के राज में रथयात्रा के पावन पर्व के दौरान दंगे हुए थे और भगवान श्री जगन्नाथ जी के रथ को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई थी। लेकिन नरेन्द्र मोदी जी से लेकर आज मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के कार्यकाल तक गुजरात में रथ यात्रा पर पत्थर फेंकने की हिम्मत किसी में नहीं है। माँ वरदायीनी माता के इस बरसों पुराने मंदिर कोआज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ‘प्रसाद योजना’ में शामिल कर इसे पूरे देश के नक्शे पर रखने का काम किया है।

अमित शाह ने कहा कि आज मेरे लोकसभा क्षेत्र एक साथ में 117 करोड़ रुपये के विकास कार्य शुरू हुए हैं और 93 करोड़ रुपये के कार्यों का लोकार्पण हुआ है और कुल मिलाकर 210 करोड़ रुपये के विभिन्न विकास कार्यों की आज शुरुआत हुई है। उन्होने कहा कि प्रसाद योजना के तहत पूरे गाँव में विकास होनेवाला है, इसके अंतर्गत विरासत के सभी स्थल को पुनर्जिवित कर बुनियादी ढांचे का विकास होगा।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आनेवाले वर्षों में रुपाल पूरे गुजरात और देश का यात्रा केन्द्र बने उसके लिए आपका सांसद के नाते जो भी जरूरी होगा मैं उसे अवश्य पूरा करूँगा। उन्होने कहा कि आज जिस तालाब का शिलान्यास हुआ है वह जल्द से जल्द हो पूरा हो जाय और तालाब लंबे समय तक सुंदर बना रहे उसकी व्यवस्था के बारे में भी सोचना होगा। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज़ादी के अमृत महोत्सव में देश के हर ज़िले में 75 तालाब बनाने की शुरुआत की है। इन तालबों के सर्जन से देश के भूगर्भ का जलस्तर बढने बढ़ेगा और पर्यावरण में सुधारतो होगा ही साथ ही पशु-पक्षियों को भी राहत मिलेगी और लोगों के लिए एक प्रवासन स्थल बनेगा। अपने जिले में भी 75 नए अमृत सरोवर बनेंगे, इसके अलावा मैंने सीएसआर फंड से 10 तालाब बनाने का काम भीअपने हाथ में लिया है। इस प्रकार अपने जिले में कुल 85 तालाब नए बनेंगे और मुझे पूरी उम्मीद है कि इनसे इस क्षेत्र की सुंदरता भी बढ़ेगी।

Related posts

Leave a Comment