FAQs: कोविड-19 ओमिक्रॉन वेरिएंट पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न के जवाब

FAQs: कोविड-19 ओमिक्रॉन वेरिएंट पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न के जवाब

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोविड 19 के नए वेरिएंट पर अक्सर पूछे जानेवाले प्रश्नों (एफएक्यू) के उत्तर जारी किए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोविड 19 के इस नए वेरिएंट को 26 नवंबर 2021 को ओमिक्रॉन (बी.1.1.529) के रूप में वर्गीकृत किया है।

ओमिक्रॉन क्या है और इसे एक चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) क्या बनाता है?

यह सार्स-कोव-2 का एक नया वेरिएंट (संस्करण) है जिसका पता हाल ही में 24 नवंबर 2021 को दक्षिण अफ्रीका में चला जहां इसे बी.1.1.1.529 या ओमिक्रॉन (अल्फा,बीटा,डेल्टा आदि जैसे ग्रीक अक्षरों पर आधारित) नाम दिया गया है। यह वेरिएंट बहुत बड़ी संख्या में उत्परिवर्तन (म्यूटेशन) दिखाता है, खासकर वायरल स्पाइक प्रोटीन पर यह 30 से अधिक, जो प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का प्रमुख लक्ष्य है।
ओमिक्रॉन में उत्परिवर्तन की बड़ी संख्या, जो पहले व्यक्तिगत रूप से बढ़ी हुई संक्रामकता और/या प्रतिरक्षा बचाव से जुड़ा हुआ है, और दक्षिण अफ्रीका में इसके पॉजिटीव मामलों की संख्या में अचानक आई तेजी को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमिक्रॉन को एक चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) घोषित किया है।

क्या वर्तमान में उपयोग की जाने वाली निदान विधियों में ओमिक्रॉन का पता लगाया जा सकता है?

सार्स-कोव-2 वेरिएंट के निदान का सबसे स्वीकृत और आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला तरीका आरटी-पीसीआर विधि है। यह विधि वायरस की उपस्थिति की पुष्टि करने के लिए वायरस में स्पाइक (एस), लिफाफा की तरह (ई) और न्यूक्लियोकैप्सिड (एन) आदि जैसे विशिष्ट जीन का पता लगाती है। हालांकि, ओमिक्रॉन के मामले में, चूंकि स्पाइक एस जीन बहुत अधिक उत्परिवर्तित होता है, कुछ प्राइमर ऐसे होते हैं जिससे एस जीन की अनुपस्थिति का संकेत मिलता है (जिसे एस जीन ड्रॉप आउट कहा जाता है)। यह विशेष एस जीन ड्रॉप आउटअन्य वायरल जीन का पता लगाने के साथ-साथ ओमाइक्रोन की नैदानिक ​​विशेषता का भी पता लगाने में भी उपयोग किया जा सकता है। हालांकि, ओमिक्रॉन वेरिएंट की अंतिम तौर पर पुष्टि के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग की आवश्यकता होती है।

हमें नए चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) को लेकर कितना चिंतित होना चाहिए?

डब्ल्यूएचओ कोविड​​​​-19 महामारी विज्ञान में संक्रमण क्षमता या हानिकारक परिवर्तन में वृद्धि; या विषैलापन में वृद्धि या नैदानिक ​​रोग प्रस्तुति में बदलाव; या सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों या उपलब्ध निदान, टीके, चिकित्सा विज्ञान की प्रभावशीलता में कमी का आकलन करने के बाद ही किसी वेरिएंट को चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) घोषित करता है। (स्रोत: डब्ल्यूएचओ)
यह उजागर करना महत्वपूर्ण है कि ओमिक्रॉन को बड़ी संख्या में देखे गए उत्परिवर्तन, उनके बढ़े हुए संक्रमण और प्रतिरक्षा बचाव के अनुमानित विशेषताओं, और कोविड-19 महामारी विज्ञान में आए हानिकारक बदलाव के प्रारंभिक साक्ष्य जैसे बढ़ा हुए पुनर्संक्रमण, के आधार पर चिंताजनक वेरिएंट (वीओसी) घोषित किया गया है। अब बढ़ी हुई कमी और प्रतिरक्षा बचाव के लिए निश्चित सबूत की प्रतीक्षा है।

हमें क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

इससे बचने के लिए बरती जाने वाली सावधानियां और उपाय पहले की तरह ही रहेंगे। अपने चेहरे पर ठीक तरीके से मास्क लगाना आवश्यक है, टीके की दोनों खुराकें लें (यदि अभी तक टीकाकरण नहीं किया गया है), एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के बीच की दूरी (सामाजिक दूरी) बनाए रखें और जहां तक संभव हो घरों को अधिक से अधिक हवादार बनाए रखें।

क्या कोई तीसरी लहर होगी?

दक्षिण अफ्रीका के बाहर के देशों से ओमिक्रॉन के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं और इसकी विशेषताओं को देखते हुए, इसके भारत सहित और अधिक देशों में फैलने की आशंका है। हालांकि, मामलों में वृद्धि का पैमाना और परिमाण तथा सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इससे होने वाली बीमारी की गंभीरता अब भी स्पष्ट नहीं है। इसके अलावा, भारत में टीकाकरण की तेज गति और उच्च सेरोपोसिटिविटी के सबूत के रूप में डेल्टा संस्करण के उच्च जोखिम को देखते हुएरोग की गंभीरता कम होने का अनुमान है। हालांकि, वैज्ञानिक प्रमाण अब भी विकसित हो रहे हैं।

क्या मौजूदा टीके ओमाइक्रोन के खिलाफ काम करेंगे?

हालांकि, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मौजूदा टीके ओमिक्रॉन पर असरदार नहीं होते हैं, लेकिन स्पाइक जीन पर रिपोर्ट किए गए कुछ उत्परिवर्तन मौजूदा टीकों की प्रभावकारिता को कम कर सकते हैं। हालांकि, टीका सुरक्षा रोग प्रतिकारक के साथ-साथ सेलुलर प्रतिरक्षा द्वारा भी है, जिसके अपेक्षाकृत बेहतर संरक्षित होने की उम्मीद है। इसलिए टीकों से अब भी गंभीर बीमारी से सुरक्षा मिलने की उम्मीद है और उपलब्ध टीकों के साथ टीकाकरण महत्वपूर्ण है। यदि पात्र हैं और टीका नहीं लगाया गया है, तो टीकाकरण अवश्य करवाना चाहिए।

भारत कैसे प्रतिक्रिया दे रहा है?

भारत सरकार स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रही है और समय-समय पर उपयुक्त दिशा-निर्देश जारी कर रही है। इस बीच, वैज्ञानिक और चिकित्सा समुदाय इस नए रोग का निदान विकसित करने और उसे उपलब्ध कराने, जीनोमिक निगरानी करने, वायरल और महामारी विज्ञान विशेषताओं के बारे में सबूत पैदा करने और चिकित्सा शास्त्र के विकास के लिए तैयार है।

वेरिएंट क्यों होते हैं?

वेरिएंट वायरस के विकास का सामान्य हिस्सा हैं और जब तक वायरस संक्रमण बढ़ाने, अपनी प्रतिकृति बनाने और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने में सक्षम है, तब तक वे विकसित होते रहेंगे। इसके अलावा, सभी वेरिएंट खतरनाक नहीं होते हैं और अक्सर हम उन्हें देख भी नहीं पाते हैं। उनका पता तभी चलता है जब वे अधिक संक्रामक होते हैं, या लोगों को फिर से संक्रमित करने लगते हैं। वेरिएंट की वृद्धि को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम इसके संक्रमण को सीमित करना या उसकी संख्या को कम करना है।

Related posts

Leave a Comment