सोमालिया की संसद ने संविधान में ऐतिहासिक संशोधनों के लिए मतदान किया जिससे बड़े बदलाव हुए

सोमालिया की संसद ने संविधान में ऐतिहासिक संशोधनों के लिए मतदान किया जिससे बड़े बदलाव हुए

सोमालिया की संसद ने कई हफ्तों की बहस और चर्चा के बाद, संविधान में ऐतिहासिक संशोधनों के लिए मतदान किया जिससे बड़े बदलाव हुए हैं। इन बदलावों के बाद देश के राष्ट्रपति को प्रधानमंत्री की नियुक्ति और पद से हटाने का अधिकार होगा। यह परिवर्तन दो शीर्ष शक्ति केंद्रों के बीच अधिकारों के बंटवारे के बीच जुड़े विवाद के कारण आया।

संवैधानिक संशोधन ने बहुदलीय प्रणाली को बढ़ावा देते हुए देश में तीन राजनीतिक दलों की उपस्थिति का मार्ग भी प्रशस्त किया है। इस संशोधन से सरकारी संवैधानिक निकायों का कार्यकाल पांच साल कर दिया गया है।

फरवरी में, स्वतंत्र संविधान समीक्षा और कार्यान्वयन आयोग ने संशोधनों का प्रस्ताव किया था जिनमें लड़कियों के लिए परिपक्वता आयु 15 वर्ष और जिम्मेदारी ग्रहण करने की आयु 18 वर्ष निर्धारित की गई है।

अधिकार समूहों और मानवाधिकार निगरानी संस्था ने आगाह किया है कि मौजूदा प्रस्ताव बच्चों, विशेषकर लड़कियों के लिए अनुपयुक्त साबित होंगे।

Related posts

Leave a Comment