संसद में राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव, 2024 के फाइनल का उद्घाटन समारोह आयोजित किया

संसद में राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव, 2024 के फाइनल का उद्घाटन समारोह आयोजित किया

युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय द्वारा आज संसद में राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव, 2024 के फाइनल का उद्घाटन समारोह आयोजित किया। इस महोत्सव का समापन समारोह 6 मार्च 2024 को नई दिल्ली स्थित संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित किया जाएगा।

समापन समारोह में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और केन्द्रीय युवा कार्य्रकम एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर भाग लेंगे।

उद्घाटन समारोह में बोलते हुए, युवा कार्यक्रम सचिव मीता राजीवलोचन ने कहा कि भारत एक ऐसा देश है जिसका नेतृत्व हमेशा युवाओं ने किया है और इस देश का भविष्य युवाओं पर निर्भर है। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय युवा हर क्षेत्र में सबसे आगे हैं।

उन्होंने कहा कि माय भारत प्लेटफॉर्म के शुभारंभ होने के महज तीन महीने के भीतर ही करीब 1.5 करोड़ युवाओं ने इस पर पंजीकरण कराया है।

इस वर्ष की राष्ट्रीय युवा संसद ‘युवा अभिव्यक्ति: राष्ट्र के परिवर्तन के लिए जुड़ाव और सशक्तीकरण’ विषय पर आधारित है।

राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव, 2024 का आयोजन 9 फरवरी 2024 से 6 मार्च 2024 के दौरान देशभर में किया गया। यह युवा संसद देश के 785 जिलों को शामिल करते हुए तीन स्तरों पर आयोजित की गई।

जिला युवा संसद का आयोजन 9 फरवरी 2024 से 14 फरवरी 2024 के दौरान किया गया। जिला युवा संसद-2024 के विजेताओं ने 19 फरवरी से 24 फरवरी 2024 के दौरान राज्य युवा संसद में भाग लिया।

सत्तासी (87) राज्यस्तरीय विजेता 5 मार्च और 6 मार्च 2024 को संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय युवा संसद-2024 के फाइनल के लिए नई दिल्ली में एकत्रित होंगे। सत्तासी राज्यस्तरीय विजेता (प्रथम, दूसरे और तीसरे पुरस्कार विजेता) राष्ट्रीय युवा संसद में भाग लेंगे, जिनमें से 29 (प्रत्येक एसवाईपी के प्रथम विजेता) दिए गए विषयों पर बोलेंगे। शेष 58 राष्ट्रीय युवा संसद में श्रोता के रूप में भाग लेंगे।

युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, नेहरू युवा केन्द्र संगठन (एनवाईकेएस) और राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के माध्यम से युवा संसद यानी जिला युवा संसद, राज्य युवा संसद और राष्ट्रीय युवा संसद का आयोजन करता है। इन युवा संसदों का उद्देश्य लोकतंत्र की जड़ों को मजबूत करना, अनुशासन की स्वस्थ आदतों को विकसित करना, दूसरों के दृष्टिकोण के प्रति सहनशीलता दिखाना और युवाओं को संसद की कार्यप्रणालियों एवं प्रक्रियाओं से अवगत कराना है। युवा संसद सक्रिय नागरिक होने के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने और युवाओं के जुड़ाव एवं भागीदारी को बढ़ावा देने में भी मदद करती है। यह युवाओं में नेतृत्व के गुणों को बढ़ावा देती है और उन्हें अपनी पूरी क्षमता का एहसास करने एवं इस क्रम में राष्ट्र निर्माण में योगदान करने में सक्षम बनाती है।

राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव (एनवाईपीएफ) 31 दिसंबर 2017 को प्रधानमंत्री द्वारा ‘मन की बात’ संबोधन में व्यक्त किए गए विचार पर आधारित है। प्रधानमंत्री के विचार से प्रेरणा लेते हुए, पहला राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव (एनवाईपीएफ)-2019 जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर 12 जनवरी से 27 फरवरी 2019 के दौरान आयोजित किया गया था और दूसरे राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2021 का आयोजन 23 दिसंबर 2020 से 12 जनवरी 2021 के दौरान जिला, राज्य स्तर पर आभासी माध्यम से और 11 जनवरी -12 जनवरी, 2021 को राष्ट्रीय स्तर पर वास्तविक माध्यम से नई दिल्ली स्थित संसद के केन्द्रीय कक्ष में किया गया था। 12 जनवरी, 2021 को समापन समारोह के दौरान, प्रधानमंत्री ने आभासी माध्यम से लोकसभा अध्यक्ष और युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), शिक्षा मंत्री की गरिमामयी उपस्थिति में राष्ट्रीय युवा संसद और देश के युवाओं को संबोधित किया था।

तीसरा राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव-2022, 14 फरवरी से 27 फरवरी, 2022 के दौरान आभासी माध्यम से जिला एवं राज्य स्तर पर और वास्तविक माध्यम से राष्ट्रीय स्तर पर 10 मार्च और 11 मार्च, 2022 को नई दिल्ली स्थित संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित किया गया था।

चौथा राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2022-2023 जिला और राज्य स्तर पर क्रमशः 25 जनवरी से 29 जनवरी 2023 एवं 3 फरवरी से 7 फरवरी 2023 के दौरान आभासी माध्यम से तथा 1 मार्च और 2 मार्च, 2023 को राष्ट्रीय स्तर पर वास्तविक माध्यम से नई दिल्ली स्थित संसद के केन्द्रीय कक्ष में आयोजित किया गया था।

Related posts

Leave a Comment