भारत और अमेरिका के बीच 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता से पहले नई दिल्ली में प्रथम इंडस-एक्स निवेशक सम्मेलन आयोजित किया गया

भारत और अमेरिका के बीच 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता से पहले नई दिल्ली में प्रथम इंडस-एक्स निवेशक सम्मेलन आयोजित किया गया

रक्षा मंत्रालय के रक्षा उत्पादन विभाग और अमेरिकी रक्षा विभाग के अंतर्गत रक्षा उत्कृष्टता के लिए नवाचार (आई डेक्स) ने 8 नवंबर 2023 को नई दिल्ली में भारत और अमेरिका के बीच 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता के पहले आयोजन के रूप में प्रथम इंडस-एक्स निवेशक सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के दौरान इंडस- एक्स शैक्षिक श्रृंखला (गुरुकुल) भी शुरू की गई। अमेरिकी रक्षा विभाग के अंतर्गत रक्षा नवाचार इकाई (डीआईयू) के निदेशक डौग बेक ने अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया और भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विवेक विरमानी, पीओ (जी) और सीओओ/आईडेक्स-डीआईओ ने किया। इस आयोजन का समन्वय भारत-अमेरिका रणनीतिक साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ), इंडसटेक और एमएसीएच33.एईआरओ (सोशल अल्फा) द्वारा किया गया था।

पहले इंडस-एक्स निवेशक सम्मेलन के दौरान रक्षा क्षेत्र में काम कर रहे स्टार्ट-अप और सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम उद्यम (एमएसएमई) में निवेशकों की रुचि और इंडस-एक्स पहल के अंतर्गत उभरते अवसरों को प्रदर्शित किया गया। इंटरैक्टिव बैठक में दोनों पक्षों के सभी हितधारकों जैसे स्टार्टअप/सूक्ष्म, लघु एवं माध्यम उद्यम (एमएसएमई), निवेशक, इनक्यूबेटर, उद्योग को सहयोगी एजेंडे और अवसरों पर चर्चा करने के लिए एक मंच प्रदान किया गया।

इस कार्यक्रम में स्टार्ट-अप, निवेशकों, सरकारी अधिकारियों और रक्षा उद्योग के व्यापारिक प्रतिनिधियों सहित 50 विचारशील नेताओं के साथ-साथ चुनिंदा उपस्थित लोगों के साथ पैनल चर्चा पर भी ध्यान केंद्रित किया गया था। पैनल ने ‘रक्षा क्षेत्र में निवेश के अवसरों’ पर चर्चा की, जिसमें रक्षा सहयोग और सह-उत्पादन के लिए एक स्थायी वाणिज्यिक आधार स्थापित करने पर विस्तार से चर्चा की गई।

निवेशक-स्टार्ट-अप संपर्क सत्र में, प्रमुख भारतीय और अमेरिकी निवेशकों, वीसी और रक्षा स्टार्ट-अप ने रक्षा क्षेत्र के लिए अपनी योजनाओं और एक-दूसरे से अपेक्षाओं के बारे में अपनी जानकारी प्रदान की। चुनिंदा भारतीय और अमेरिकी स्टार्टअप ने भी लोगों के सामने अपनी प्रोफ़ाइल और नवाचार प्रस्तुत किए।

गुरुकुल पहल का उद्देश्य अन्वेषक/स्टार्टअप को अमेरिका और भारत के रक्षा इकोसिस्टम में सम्मिलित करने में सहायता करना है। गुरुकुल (शिक्षा) श्रृंखला में सरकारी अधिकारियों, कॉर्पोरेट प्रतिनिधियों, उद्योग मंचों, इनक्यूबेटर्स/एक्सेलरेटर्स आदि सहित दोनों पक्षों के विशेषज्ञों द्वारा स्टार्टअप्स/अन्वेषकों के लिए सत्र होंगे। कार्यक्रम का पहला सत्र निदेशक, डीआईयू और सीओओ के बीच एक दिलचस्प आपसी बातचीत के साथ शुरू किया गया। डीआईओ इंडस-एक्स पहल के अंतर्गत रक्षा स्टार्ट-अप के लिए अवसरों और भविष्य की राह पर प्रकाश डाला गया।

डौग बेक ने महत्वपूर्ण मुद्दों पर पैनल चर्चा के अलावा संयुक्त नवाचार कोष की स्थापना पर विचार-मंथन सत्र की सराहना की। उन्होंने संयुक्त इम्पैक्ट चुनौतियों की प्रतिक्रिया पर संतोष व्यक्त किया और विश्वास जताया कि गुरुकुल शैक्षिक श्रृंखला स्टार्टअप्स को भारत और अमेरिका के रक्षा इको-सिस्टम में सम्मिलित करने में सहायता करेगी।

विरमानी ने कहा कि अग्रणी निवेशक संपर्क कार्यक्रम से रक्षा नवाचार के क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा। उन्होंने इस बात पर भी सहमति व्यक्त की कि गुरुकुल के अंतर्गत अंतिम रूप दिए गए विषय सभी हितधारकों, विशेषकर स्टार्टअप्स के लिए प्रासंगिक होंगे। निदेशक/डीआईयू और सीओओ/डीआईओ दोनों ने स्टार्टअप्स और अन्वेषकों को संयुक्त इम्पैक्ट चुनौतियों के लिए लागू करने और गुरुकुल शैक्षिक श्रृंखला में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया।

भारत-अमेरिकी डिफेंस एक्सीलरेशन इकोसिस्टम (इंडस-एक्स) को जून 2023 में भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अमेरिका की राजकीय यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका की सरकारों, व्यवसायों व शैक्षणिक संस्थानों के बीच रणनीतिक प्रौद्योगिकी साझेदारी और रक्षा औद्योगिक सहयोग का विस्तार करने के लिए शुरू किया गया था।

Related posts

Leave a Comment