प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात के भरूच के एक VBSY लाभार्थी, ITI-प्रमाणित किसान अल्पेशभाई चंदूभाई निज़ामा के साथ परस्पर बातचीत की

प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात के भरूच के एक VBSY लाभार्थी, ITI-प्रमाणित किसान अल्पेशभाई चंदूभाई निज़ामा के साथ परस्पर बातचीत की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विकसित भारत संकल्प यात्रा (वीबीएसवाई) के लाभार्थियों से बातचीत की। सरकार की प्रमुख योजनाओं की परिपूर्णता अर्जित करने के लिए देश भर में विकसित भारत संकल्प यात्रा शुरू की जा रही है जिससे कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इन योजनाओं का लाभ सभी लक्षित लाभार्थियों तक समयबद्ध तरीके से पहुंच सके।

आईटीआई-प्रमाणित किसान और हार्डवेयर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा धारक, गुजरात के भरूच के वीबीएसवाई लाभार्थी अल्पेशभाई चंदूभाई निज़ामा से परस्पर बातचीत के बाद प्रधानमंत्री ने कृषि क्षेत्र में शामिल होने के उनके निर्णय के बारे में पूछताछ की। अल्पेशभाई ने उत्तर दिया कि उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ने और 40 एकड़ की अपनी पैतृक भूमि पर किसान बनने का निर्णय लिया। उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया कि उन्होंने राज्य और केंद्र सरकार दोनों द्वारा प्रदत्त लाभों का उपयोग किया, जहां उन्होंने रियायती कीमतों पर कृषि उपकरण खरीदे। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने ड्रिप सिंचाई तकनीक में 3 लाख रुपये की सब्सिडी का लाभ उठाया। प्रधानमंत्री ने कहा, “आपकी उम्र में मुझे नहीं पता था कि लाख रुपये कैसे दिखते हैं और आप लाखों के बारे में बात कर रहे हो। यही परिवर्तन है।”

प्रधानमंत्री ने अल्पेशभाई को प्राप्त सब्सिडी पर संतोष व्यक्त किया और उनसे अपने साथी किसानों को नवीनतम कृषि तकनीकों और आधुनिक उपकरणों के बारे में सलाह देने का भी आग्रह किया। अल्पेशभाई ने 2008 से एटीएमए (कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी) परियोजनाओं के साथ अपने जुड़ाव के बारे में बात की, जहां उन्होंने अन्य क्षेत्रों और राज्यों की कृषि तकनीकों के बारे में ज्ञान प्राप्त किया। उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें भरूच में प्रधानमंत्री की उपस्थिति में एटीएमए द्वारा ‘सर्वश्रेष्ठ कृषक पुरस्कार’ प्राप्त हुआ था।

प्रधानमंत्री ने पृष्ठभूमि में उनकी बेटी के मुस्कुराते चेहरे पर ध्यान दिया और उससे परस्पर बातचीत भी की और उसे ‘भारत माता की जय’ के नारे उच्चरित करने के लिए कहा। इसके परिणामस्वरूप, पूरी भीड़ ने तालियाँ बजाईं, जिससे प्रधानमंत्री को अत्यधिक प्रसन्नता हुई।

प्रधानमंत्री ने यह उल्लेख करते हुए समापन किया कि अल्पेशभाई जैसे लोग उन युवाओं के लिए प्रेरणा हैं जो कृषि की ओर रुख कर रहे हैं। उन्होंने किसानों को आधुनिक तकनीक, नवोन्मेषण और नई सोच के साथ खेत से बाजार तक (बीज से बाजार तक) बेहतर वातावरण उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, “शिक्षित युवाओं का खेती में प्रवेश इस संकल्प को शक्ति देता है।” प्रधानमंत्री ने किसानों को कृषि में ड्रोन का उपयोग करने के लिए भी प्रोत्साहित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों से अगले 5 गांवों में ‘मोदी की गारंटी’ वाहन के भव्य स्वागत के लिए तैयार रहने का भी अनुरोध किया।

Related posts

Leave a Comment