अंतरराष्ट्रीय योग दिवस- 2024 की 75 दिनों की उलटी गिनती के उपलक्ष्य में महाराष्ट्र के पुणे में योग महोत्सव आयोजित किया गया

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस- 2024 की 75 दिनों की उलटी गिनती के उपलक्ष्य में महाराष्ट्र के पुणे में योग महोत्सव आयोजित किया गया

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की 75-दिवसीय उलटी गिनती के उपलक्ष्य में महाराष्ट्र के पुणे स्थित वाडिया कॉलेज स्पोर्ट्स ग्राउंड में आयोजित ‘योग महोत्सव’ में लोगों ने बड़ी संख्या में हिस्सा लिया। इसे मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान और भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के अधीन राष्ट्रीय प्राकृतिक चिकित्सा संस्थान ने संयुक्त रूप से आयोजित किया। इस भव्य कार्यक्रम में हजारों प्रतिभागी एकत्रित हुए और सामान्य योग प्रोटोकॉल (सीवाईपी) के अभ्यास में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम के दौरान उत्साह और भागीदारी का यह उल्लेखनीय प्रदर्शन व्यक्तिगत व सामाजिक सुधार को बढ़ावा देने में योग के बढ़ते महत्व को रेखांकित करता है।

इस कार्यक्रम में कई सम्मानित अतिथियों ने अपनी उपस्थिति से इसकी गरिमा बढ़ाई। इनमें आयुष मंत्रालय में उप महानिदेशक सत्यजीत पॉल, योग विद्या गुरुकुल के अध्यक्ष व नासिक स्थित प्रतिष्ठित योग गुरु श्री विश्वास मांडलिक, आयुष मंत्रालय में निदेशक विजयालक्ष्मी भारद्वाज, पुणे स्थित राष्ट्रीय प्राकृतिक चिकित्सा संस्थान की निदेशक डॉ. सत्य लक्ष्मी और एमडीएनआईवाई के निदेशक डॉ. काशीनाथ समगाडी शामिल थे। उनकी भागीदारी ने इस अवसर को विशिष्ट बना दिया, जो योग को बढ़ावा देने और व्यक्तियों व समुदायों के लिए बेहतरी के उद्देश्य को आगे बढ़ाने की सामूहिक प्रतिबद्धता को दिखाता है।

इस कार्यक्रम में आयुष मंत्रालय, राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी और कई प्रतिष्ठित गणमान्य व्यक्ति व विशेषज्ञ उपस्थित थे। साथ ही कई सम्मानित योग प्रशिक्षकों और गुरुओं के संदेशों को प्रतिभागियों तक पहुंचाया गया।

इस अवसर पर आयुष मंत्रालय के उप महानिदेशक सत्यजीत पॉल ने कहा, “यह काफी प्रसन्नता और गर्व की बात है कि इस प्राचीन वातावरण में पुणे अद्भुत ‘योग महोत्सव’ की मेजबानी कर रहा है। योग स्वस्थ और बेहतर कल की दिशा में यह एक वैश्विक आंदोलन है।” उन्होंने बड़ी संख्या में उपस्थित लोगों की सराहना की और उन्हें बधाई भी दी।

वहीं, नासिक स्थित योग विद्या गुरुकुल के अध्यक्ष विश्वास मांडलिक ने कहा, “योग भारत की समृद्ध विरासत का एक अद्भुत उपहार है, जिसने विश्व को एक स्वस्थ स्थल बनने में सहायता की है। योग मूल रूप से एक आध्यात्मिक अनुशासन है, जो काफी सूक्ष्म विज्ञान पर आधारित है। यह मस्तिष्क और शरीर के बीच सामंजस्य स्थापित करने पर अपना ध्यान केंद्रित करता है।”

आज के मेगा शो में सामान्य योग प्रोटोकॉल (सीवाईपी) को काफी महत्व दिया गया। प्रमुख अतिथियों के संबोधन के बाद एमडीएनआईवाई के निदेशक के नेतृत्व में मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के विशेषज्ञों ने सामान्य योग प्रोटोकॉल का प्रदर्शन किया गया। इसमें 5,000 से अधिक योग साधकों ने हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम को आयुष मंत्रालय, एमडीएनआईवाई और अन्य योग संस्थानों के विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से प्रसारित किया गया।

इसके अलावा भारतीय योग एसोसिएशन ने भी अपने महाराष्ट्र राज्य चैप्टर के साथ 75वें दिन आईडीवाई- 2024 समारोह का समर्थन किया है।

Related posts

Leave a Comment